कृषक जीवन ज्योति योजना : कृषि पंप के बिजली बिल म छूट

मंत्रिपरिषद के बैठक म लेहे गीस महत्वपूर्ण निर्णय

रायपुर 31 जुलाई 2018। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के अध्यक्षता म आज इहां मंत्रालय (महानदी भवन) म आयोजित मंत्रिपरिषद के बैठक म बहुत अकन महत्वपूर्ण निर्णय लेहे गीस, जऊन खल्‍हे म देहे मुताबिक हे-
सहज बिजली बिल योजना के घोषणा
मंत्रिपरिषद कोति ले किसान मन ल बड़का राहत देहे के पहल करत कृषक जीवन ज्योति योजना के तहत प्रदेश के सबो किसान मन के सबो पंप ल बिना कोनो क्षमता अउ खपत के सीमा के फ्लैट रेट के सुविधा लागू करे के निर्णय ले गीस। ए निर्णय के अंतर्गत कृषक जीवन ज्योति योजना के अंतर्गत राज्य के सबो किसान मन के सबो पंप म बिलिंग बर फ्लैट रेट के सुविधा पंप के संख्या के अनुसार अलग-अलग प्रस्तावित करे गए हे।
कृषक जीवन ज्योति योजना म विस्तार के बाद ए योजना के अंतर्गत किसान मन ल विकल्प के अनुसार पंप के क्षमता अउ संख्या के आधार म बिजली के सप्लाई ये प्रकार के फ्लैट रेट म करे जाही:-

  • पंप के क्षमता :- 05 एचपी तक के दूसर पंप म फ्लैट रेट के दर :- रूपिया 200 प्रति एचपी प्रतिमाह
  • पंप के क्षमता :- 05 एचपी ले जादा पहिली अउ दूसर पंप म फ्लैट रेट के दर :- रूपिया 200 प्रति एचपी प्रतिमाह
  • पंप के क्षमता :- 05 एचपी तक के अउर 05 एचपी ले जादा क्षमता के तीसर अउ आन पंप म फ्लैट रेट के दर :- रूपिया 300 प्रति एचपी प्रतिमाह

ए निर्णय के लागू करे के बाद कृषक जीवन ज्योति योजना के अंतर्गत सहज बिजली बिल स्कीम के तहत किसान मन ल बिजली बिल के बकाया राशि बर जारी बिल मन ल किसान मन के विकल्प के अनुसार फ्लैट रेट म संशोधित करके भुगतान करे के सुविधा दे जाही। योजना के अंतर्गत विकल्प प्रस्तुत करे बर 31 मार्च 2019 के अवधि निरधारित करे गए हे।

संविदा म नियोजित महिला कर्मचारी मन ल घलोक शासकीय महिला कर्मचारी मन के जइसे 180 दिवस के प्रसूति अवकाश (सवैतनिक) के पात्रता होही। ये अवकाश दू जीवित संतान के पाछू होए प्रसव म लागू नइ होवय। एखरे संग ये अवकाश 180 दिन या संविदा नियुक्ति के अवधि समाप्ति तक, जऊन पहिली होवय, तेखर बर होही।
सीधा भर्ती के तीसर श्रेणी के पद मन म अनुकम्पा नियुक्ति बर 10 प्रतिशत के सीमा बंधन ल एक पइत बर डेढ़ महिना तक के अवधि बर शिथिल करे जाही।
जल संसाधन विभाग म उप अभियंता मन के सहायक अभियंता के पद म पदोन्नति बर सहायक अभियंता के 505 सांख्येत्तर पद के स्वीकृति प्रदान करे गीस।

लउछरहा..