चुनाव प्रक्रिया पूरा होत तक एक्जिट पोल, ओपीनियन पोल अऊ सर्वेक्षण उपर प्रतिबंध

भारत निर्वाचन आयोग ह छत्तीसगढ़ संग पांच राज्य मन के विधानसभा चुनाव के समय निर्वाचन प्रक्रिया के पूरा होत तक कोनो प्रकार के एक्जिट पोल के आयोजन करे अऊ ओखर परिणाम प्रकाशित अथवा प्रचारित करे म प्रतिबंध लगा देहे हे। ए सिलसिला म छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री सुब्रत साहू ह सबो मीडिया संस्थान मन ल एकर पालन सुनिश्चित करे के आग्रह करे हे। उमन कहिन हे के एकर उल्लंघन आदर्श चुनाव आचरण संहिता के घलोक उल्लंघन माने जाही।
श्री साहू ह भारत निर्वाचन आयोग कोति ले जारी अधिसूचना के उल्लेख करत आज बताइन के छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, राजस्थान, मिजोरम अऊ तेलांगाना राज्य मन के विधानसभा मन के आम चुनाव के प्रक्रिया चलत हे। छत्तीसगढ़ म पहिली चरण म 18 निर्वाचन क्षेत्र मन म मतदान 12 नवम्बर के दिन पूरा हो गए हे अऊ काल 20 नवम्बर के दिन दूसर चरण म शेष 72 निर्वाचन क्षेत्र मन बर मतदान होही। उमन बताइन के मध्यप्रदेश अऊ मिजोरम म 28 नवम्बर अउ राजस्थान अऊ तेलांगाना म 07 दिसम्बर के दिन मतदान होना हे। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के धारा 126 (क) के प्रावधान के अनुसार ए अवधि म कोनो एक्जिट पोल आयोजित करे अऊ ओखर नतीजा ल प्रकाशित अऊ प्रचारित करे म आयोग कोति ले अधिसूचित अवधि बर प्रतिबंध लगाए गए हे।
उमन बताइन के एला ध्यान म रखत लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के धारा 126 (क) के उपधारा (1) के तहत भारत निर्वाचन आयोग ह 12 नवम्बर 2018 ल पूर्वान्ह सात बजे ले अवइया सात दिसम्बर 2018 के अपरान्ह 5.30 बजे तक ए राज्य मन म एक्जिट पोल के संचालन करे अऊ प्रिंट अऊ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ले ए परिणाम मन ल प्रकाशित या प्रचारित करे या कोनो आन तरीका ले ओखर प्रसार करे म प्रतिबंध लगाए जा चुके हे। अधिसूचना के मुताबिक लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 के धारा 126(1) (ख) के तहत आम चुनाव मन के संबंध म हर एक चरण म मतदान के समाप्ति बर निरधारित समय म खतम होवइया 48 घण्टा के समय कोनो इलेक्ट्रॉनिक मीडिया म कोनो ओपीनियन पोल या आन कोनो मतदान सर्वेक्षण के परिणाम के संग कोनो प्रकार के निर्वाचन संबंधी मामला के प्रदर्शन म घलोक प्रतिबंध रहिही।
उमन बताइन के प्रतिबंधित अवधि म एक्जिट पोल, ओपीनियन पोल अऊ चुनाव सर्वेक्षण उपर पाबंदी के संगेच प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, सिनेमा अऊ टेलीविजन आदि कोनो माध्यम ले इनकर नतीजा प्रकाशित या प्रसारित नइ करे जा सकय। एकर उल्लंघन आदर्श चुनाव आचरण संहिता के उल्लंघन माने जाही अऊ अइसन करइया मन उपर कानूनी कार्रवाई करे जाही।

लउछरहा..