दुरूग (दुर्ग) सीट बर खुरच-खुरच के जोर लगावत हे भाजपा -कांग्रेस

ओचका-खोचका के लड़ई शुरू

धर्मेंद्र निर्मल के सार समाचार, दुरूग लोकसभा चुनई म भाजपा कांग्रेस दूनो के मान-मरजाद दाँव म लगे हे। एती बर कांग्रेस प्रत्यासी प्रतिमा चंद्राकर खातिर मुखिया भूपेश सँउहत मैदान संभाले के अपन मंत्री मन संग धकाधक प्रचार अभियान चलाके पार्टी के पक्ष म वातावरण बनाए म लगे हे। ओति बर बिधानसभा म मिले हार के सदमा ले उबर के भारतीय जनता पार्टी के बड़का नेता मन एके संघरा होके मोदी लहर के भरोसा विजय रथ ल आगू बढ़ाए म जुरियाए हवय।




भाजपा प्रत्यासी विजय बघेल घलो व्यवस्थित ढंग ले प्रचार अभियान म लगे हावय। जइसे-जइसे मतदान के दिन-तिथि 23 अप्रैल तीर म आवत हे वइसनेहे-वइसनेहे दूनो दल कोनो कमी नइ छोड़ना चाहत हे। जइसे ही लोकसभा चुनई के हाँका परिस भाजपा ह प्रत्यासी चुने के मामला म अगुवागे। उन मन मुखिया भूपेश बघेल के कट्टर विरोधी अउ पहिली विधायक रेहे विजय बघेल ल अपन उमीदवार घोसित कर दिन। उन मन मुखिया भूपेश बघेल ल एक घाँव के बिधानसभा चुनई म पटक डारे हवय।




विजय बघेल के विरूद्ध कांग्रेस के बड़ खीचे-ताने के पीछू दुरूग जिला के चाणक्य मनवइया वासुदेव चंद्राकर के बेटी अउ पहिली के विधायक प्रतिमा चंद्राकर ल उतारे हे। अइसे चर्चा रिहिसे के विधायक मन प्रतिमा चंद्राकर के उमीदवारी ल लेके गुसिया गे हावय फेर मुखिया भूपेश बघेल ह ए लोकसभा ले चुने कांग्रेसिया विधायक अउ मंत्री मन संग बइठका करके नवा नवा दाँव अजमावत प्रत्यासी प्रतिमा चंद्राकर ज जीतवाए खातिर जी -परान देके लगे हे। उन मन अपन 100 दिन के कार्यकाल म मिले कमई अउ किसान मन के कर्जामाफी ल जनता के आगू म रखत जात हे।




हाथी के केछुवा चाल
दुरूग लोकसभा म बहुजन समाज पार्टी ले ए दारी गीतांजलि सिंह ह खड़े हे। दुरूग लोकसभा म बसपा के बने गाढ़ा प्रभाव हावे। एकर पहिली चुनई म ओला 25 हजार ले जादा मत मिले रिहिसे। बसपा के हाथी ह अइसे तो अपन मन लगा के लगे हे फेर चाल ह थोरिक मद्धम हे। अब देखना ये हवय कि ओला मिलइया मत ह काकर बर घाटा होही।




छजकां के मत उपर गड़े हे नजर
पीछू विधानसभा चुनई म छजकां दुरूग ग्रामीण, दुरूग शहर, बेमेतरा अउ वैशालीनगर क्षेत्र म बने वोट मिले रिहिसे फेर ए दफे छजकां के कार्यकर्ता अउ कई झिन नेता मन कांग्रेस म जुरियाके प्रतिमा चंद्राकर बर प्रचार करत हावयं अउ ए कोति भारतीय जनता पार्टी ह घलो इही जुगाड-पानी म भिड़े हावय कि छजका के पाए वोट ल कोन किसम ले ओति ले टरका के अपन कोति लाय जाए।



चटकारा
जकजकहा:- धर लेबे कुदारी गा किसान
आज डिपरा ल खनके डबरा पाट देबो न
बैसुरहा:- सोच समझ करबे गा मतदान
नइतो पाँच साल ठेंगा ल चाँटत रहिबो न




लउछरहा..