धान खरीदी : किसान ल मिलही नब्‍बे हजार रूपिया के जघा अब साढ़े चार लाख रूपिया

कर्जामाफी अऊ धान के समर्थन मूल्य बढ़े ले किसान मन होईन गदगदग

जगदलपुर, किसान मन के कर्जामाफी अऊ समर्थन मूल्य बढ़े ले किसान मन अड़बड़ खुस हें। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के पदभार ग्रहण करतेच किसान मन ले करे वादा ल पूरा करे म किसान अड़बड़ उत्साहित हें अऊ मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त करत हें। एखरे संगेच किसान कर्जा माफी अऊ समर्थन मूल्य ले होवइया लाभ गणना करके ए राशि के उपयोग म घलोक चर्चा करत हें।
ग्राम बिंता के किसान श्री केदारनाथ पाढ़ी ह कर्जामाफी अऊ समर्थन मूल्य के बढ़े म होवइया लाभ के संबंध म चर्चा करत बताइस के ए साल उमन किसानी बर करीबन 3 लाख रूपिया के कर्जा सोसायटी के माध्यम ले ले रहिन। उमन कहिन के कर्जामाफी ले होए लाभ के राशि के उपयोग उमन कृषि काम म लगाहीं। उमन ए राशि ले अपन खेत म नलकूप खनन करे अऊ सब्जी के खेती चालू करे के बात कहिन।
बेड़ा उमरगांव के किसान महेशराम यादव ह बताइस के ओ ह आम तौर म 80 क्विंटल धान हर साल बेचथें। धान के बेंचे के बाद लेहे गए कर्जा के राशि काटे के पाछू ऊंखर खाता म थोरिच कन रूपिया बांचत रहिस। उमन बताइन के ए साल उमन 1 लाख 75 हजार रूपिया के राशि कर्जा के तौर म ले रहिस अऊ ए साल बेचे गए धान के पूरा रकम बाढ़े समर्थन मूल्य के संग मिलही। उमन बताइस के ऊंखर इहां ए साल भतीजी के शादी के तइयारी चलत हे अऊ शासन कोति ले किसान मन के हित म लेहे गए निर्णय ले अब ऊंखर घर घलोक पूरा धूमधाम के संग शादी के जश्न मनाये जाही।

कचनार के गंगाराम बघेल ह बताइस के ओ ह हर साल करीबन 180 क्विंटल धान बेचथे। वो ह कहिस के सरकार के ए निर्णय ले ओ ला बड़ लाभ होय हे। कहूं शासन ये निर्णय नइ लेतीस त ओला धान बेचे के बाद करीबन 90 हजार रूपिया मिलतीस, जबकि ए निर्णय ले अब ओखर खाता म करीबन साढ़े चार लाख रूपिया मिलही। वो बताइस के ओ ह अपन खेत के फेंसिंग करे के संगेच ट्रेक्टर बिसाये के योजना घलोक बनाये हे, ताकि आधुनिक तरीका ले खेती करके ओ ह अपन आय ल बढ़ा सकय।

मोंगरापाल के छेदीनाथ कश्यप ह बताइस के वो ह ए साल 1 लाख रूपिया खेती बर कर्जा के तौर म ले रहिस, जऊन ल सरकार माफ करत हे। उमन कहिन के ए राशि के उपयोग ओ मन साग-भाजी के खेती म करना चाहत रहिस। किसान मन के हित म लेहे गए ये निर्णय के स्वागत करत शासन के प्रति किसान मन ह आभार व्यक्त करत हें।

DPR

लउछरहा..