विश्व महतारी भाषा दिवस – छत्तीसगढ़ी

घर के जोगी जोगड़ा, आन गाँव के सिद्ध – तइहा के जमाना के हाना आय। अब हमन नँगत हुसियार हो गे हन, गाँव ला छोड़ के शहर आएन, शहर ला छोड़ के महानगर अउ महानगर ला छोड़ के बिदेस मा जा के ठियाँ खोजत हन। जउन मन बिदेस नइ जा सकिन तउन मन विदेसी संस्कृति ला अपनाए बर मरे जात हें। बिदेसी चैनल, बिदेसी अत्तर, बिदेसी पहिनावा, बिदेसी जिनिस अउ बिदेसी तिहार, बिदेसी दिवस वगैरा वगैरा। जउन मन न बिदेस जा पाइन, न बिदेसी झाँसा मा आइन तउन मन ला…

छत्तीसगढ़िया सबले दरूहा ???

केन्द्र सरकार के रिपोर्ट – छत्तीसगढ़ में दारू पियइया 35 परसेंट ले जादा, देश म पहला धमेन्‍द्र निर्मल के सार समाचार, समाजिक न्याय अउ अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ह देश के दरूवाहा मन ले जुडे़ एक ठो रिपोर्ट जारी करे हें। ए सर्वे रिपोर्ट म 186 जिला के 12 बछर के छोकरा ले लेके 75 बछर के डोकरा मन ल संघेरे गए हे। सर्वे म एक ठो जबर बात जानबा होइस कि देश भर म छत्तीसगढ़िया मन सबले जादा दारू पीथे। इहां करीबन 35 प्रतिशत लोगन दारू पीथे। दारू पीयब…

रेत खदान के पंचइती अब पंचायत नहीं सीमएडीसी करहीं

प्रदेश म रेत के बेजा खनई म रोक लगाए खातिर सरकार हँ अब पंचायत के जगा म छत्तीसगढ़ मिनरल डेवलपमेन्ट कार्पोरेशन ( सीएमडीसी) के देखरेख म करे बर जावत हे। छत्तीसगढ़ के मुखिया भूपेश बघेल हँ विधानसभा म बुधवार के ए बात के घोषणा करिन हे। उन मन बताइन कि एकर ले पंचायत ल मिलइया रायल्टी म कोनो किसम के फरक नइ परय भल्किन पाँच साल म पंचायत ल जउन अधिकतम राजस्व मिले हे ओकर ले 25 फीसद जादा राजस्व दिए जाही। कांग्रेस के विधायक बृहस्पति सिंह हँ ध्यानाकर्षण के…

मंत्री डहरिया अउ चंद्राकर के बीच दूदी पइत टकराव

धर्मेन्‍द्र निर्मल के सार समाचार, विधानसभा म मंत्री डहरिया अउ अजय चंद्राकर के बीच दू पइत टकराव के स्थिति बन गे रिहिसे। हालेके अइसनहा तो हर रोज होतेच रहिथे फेर ए दफे माहोल कुछ जादा गरमिया के रिहिसे । बात ए होइस के कांग्रेस के विधायक देवेन्द्र यादव के सवाल के दौरान अजय चंद्राकर कहि दिन कि तोर सवाल तो मत्री जी के मुड़ के उप्पर ले पार होगे। अतका ल देख सुन के डहरिया बमकगे अउ कहे लगिन कि तैं घेरी घांव काबर खड़ा होथस ? मंत्री मै हौं…

लोकसभा चुनाव 2019- भाजपा के गढ़ रायपुर बर तरसत हे कांग्रेस

धर्मेन्‍द्र निर्मल के सार समाचार,  रायपुर ह छत्तीसगढ़ के सबले बड़े साहर अउ राजधानी तको ए। छत्तीसगढ़ के कुल 11 सीट में ले एक रायपुर ह सामान्य वर्ग बर आरक्षित हवय। भाजपा के रमेश बैस अब तक के आम चुनाव म 7 घंव उहा ले जीत चुके हवय। आजादी के बाद ले 1952 से लेके आजतक  रायपुर ह 16 चुनाव देख चुके हे। 1999 तक ए लोकसभा सीट ह मध्यप्रदेश के अंतर्गत आवत रिहिसे। विभाजन के बाद ए छत्तीसगढ़ म आइस हे अउ अब तक तीन चुनाव हो गए हे।…