राजकीय सम्मान के संग विदा होइन पं. दामोदर प्रसाद त्रिपाठी

छुईखदान, वीरेन्‍द्र बहादुर सिंह। नगर के प्रख्यात स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पं. दामोदर प्रसाद त्रिपाठी के आज राजकीय सम्मान के संग इहां अंतिम संस्कार होइस। हजारों आंसू भरे आंखी ह आज स्व. त्रिपाठी ल आखरी विदाई दीस।
स्व. दामोदर प्रसाद त्रिपाठी के अंतिम यात्रा आज बिहनिया 11 बजे ब्राह्मण पारा स्थित ऊंखर निवास स्थान ले निकलिस। शवयात्रा म बड़ संख्या म स्वजन, परिजन अउ गणमान्य नागरिक सामिल होइन। स्थानीय मुक्तिधाम म जिला प्रशासन अउ पुलिस प्रशासन के तरफ ले स्व. त्रिपाठी ल गार्ड आफ ऑनर दे गीस अउ पार्थिव शरीर ल तिरंगा ले लपेट के श्रद्धांजलि स्वरूप पुष्प चक्र भेंट करे गीस। ओकर बाद अंतिम संस्कार के कार्यक्रम पूरा होइस। मुखाग्नि ऊंखर सुपुत्र निशीकांत त्रिपाठी ह दीन।
अंतिम संस्कार के बाद मुक्तिधाम म शोकसभा के आयोजन करे गीस। शोक सभा ल संबोधित करत विधायक गिरवर जंघेल ह श्री त्रिपाठी के निधन ल अंचल के अपूरणीय क्षति निरूपित करिन। उमन कहिन के श्री त्रिपाठी के निधन ले ब्लाक कांग्रेस कमेटी छुईखदान ह अपन प्रेरणास्त्रोत अऊ मार्गदर्शक खो दीस। पूर्व विधायक अऊ संसदीय सचिव कोमल जंघेल ह कहिन कि बहुत अकन मंच मन म ओ मन ल श्री त्रिपाठी के स्नेहपूर्ण सानिध्य मिलते रहिस। जब मंच ले उंखर सम्मान होत रहिस त अनायास हमर सीना घलोक चौड़ा हो जात रहिस। उंखर कमी ल कभी पूरा नइ करे जा सकय। शोकसभा के संचालन अधिवक्ता मनोज चौबे ह करिस। ए अवसर म अनुविभागीय अधिकारी हेमंत मत्स्यपाल, अनुविभागीय अधिकारी पुलिस श्री नायक, तहसीलदार प्रीतम साहू अउ थाना प्रभारी छुईखदान संग बड़ संख्या म गणमान्य नागरिक उपस्थित रहिन।
आप मन जानतेच होहू के राजनांदगांव, 28 नवंबर। जिला के प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानी अउर आयुर्वेदाचार्य पं. दामोदर प्रसाद त्रिपाठी के काल संझा करीबन 4 बजे ऊंखर गृह नगर छुईखदान म 95 साल के आयु म निधन हो गए रहिस। ओ मन अपन पीछू तीन पुत्र अउ दू पुत्रि मन के भरा-पूरा परिवार छोड़ गये हे। काल दोपहर अचानक उंखर तबियत बिगडिस अऊ अपन घर म ही उमन आखरी सांस लीन। ओ मन बुनियादी प्रशिक्षण संस्था (बीटीआई) खैरागढ़ के वरिष्ठ व्याख्याता अऊ हिन्दी साहित्य समिति छुईखदान के महासचिव निशिकांत त्रिपाठी के पिता रहिन। ओ मन छुईखदान म स्वतंत्रता सेनानी मन के गौरवशाली लंबा श्रृंखला के आखरी कड़ी रहिन। हम आप मन ल बता देवन के पं. दामोदर प्रसाद त्रिपाठी के जन्म 15 अगस्त 1924 के दिन होय रहिस। सन् 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन के समय रायपुर म स्वतंत्रता आंदोलन म हिस्सा लेहे के कारण ओ मन ल छै महिना के कैद के सजा सुनाए गए रहिस। ओ मन तत्कालीन बिट्रिश प्रधानमंत्री ब्रिस्टन चर्चिल के जनाना निकालत गिरफ्तार होए रहिन। श्री त्रिपाठी आयुर्वेदिक महाविद्यालय रायपुर के पहिली बैच के छात्र रहिन। उमन आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी के रूप म लंबा सेवा दीन अउ 1983 म सेवानिवृत्त होइन। स्वतंत्रता आंदोलन म उल्लेखनीय योगदान बर ओ मन ल 1955 म स्वतंत्रता सेनानी सेठ गोविंद दास अऊ 1974 म तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ह ताम्रपत्र भेंटके सम्मानित करे रहिन। 09 अगस्त 2008 के दिन अगस्त क्रांति दिवस के अवसर म नई दिल्ली म तत्कालीन राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ह अउ 2012 के दिन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ह सम्मानित करे रहिन। एखर अलावा बहुत अकन राज्य मन के मुख्यमंत्री मन अउ राज्यपाल मन के हाथ ओ मन सम्मानित होए रहिन।

Related posts