धन्य हे सरकार, जऊन हर करजा माफी करके बोझा उतार दीस

अपन सवा पांच लाख रूपिया के करजा माफ होए म जताइस नवा सरकार के आभार

कोरबा, शहर ले करीबन 70 किलोमीटर दूर पहाड़ अऊ जंगल मन ले सटे एक छोटकुन गांव हे बरेलियापारा। कच्चा सड़क वाले ए गांव म असमेर सिंह जइसे किसान घलोक रहिथे। जेखर पास खेत तो 52 एकड़ के हे। फेर करजा के बोझ म दबे ले अऊ फसल नइ होए ले ओखर माली हालत भूमिहीन किसान के जइसे हो गए रहिस। ये गांव म जाए ले अपन पुश्तैनी माटी के घर के परछी म असमेर सिंह निसफिकिर बइठे मिलिस। पाछू महीना जब हम आए रहेन त ओकर चेहरा म चिंता अऊ तनाव के लकीर रहिस। करीबन साढ़े चार साल पहिली वो ह खेती करे बर लाख रूपिया के करजा ए भरोसा ले ले रहिस के फसल अच्छा होही त करजा चुकाये के संग अपन कई संउख घलोक पूरा कर लेही। वो ह खाद, बीज खरीदिस, फसल घलोक बोंइस। फसल बोए के बाद, न सिरिफ किसान असमेर सिंह ओखर दो भाई,चार बेटा अऊ 10 भतीजा मन संग उंखर पत्नि मन अउ घर के आन सबो सदस्य मन के सपना रहिन के धान बेचके हाथ म कुछ न कुछ रूपिया जरूर आही। कुछ इही भरोसा के संग ए सयुंक्त परिवार के हर सदस्य मन ह खेती किसानी के काम म मिलजुलके हाथ बंटावत रहिन। समय के संग अच्छा फसल के उम्मीद पाले किसान असमेर सिंह संग वोकर परिवार ल एक बड़ा झटका तब लगिस जब उन्‍हा बरसा नइ होइस। फसल के नुकसान तो होबेच करिस, जऊन करजा ले रहिस ओला घलव नइ चुका पाय के चिंता ह पूरा परिवार ल तनाव म डार दिस। करजा के बोझ तले विषम परिस्थित म जीवन यापन करत किसान तीर कोनो अऊ उपाय नइ रहिस जऊन ओला करजा ले मुक्ति देवा सकय। चिंता म डूबे ए कुटुंब बर नवा सरकार के किसान हितैषी कदम एक बड़का राहत लेके आइस। प्रदेश के आन किसान मन के जइसे कोरबा जिला के ग्राम जटगा के किसान असमेर सिंह के सबले जादा सवा पांच लाख रूपिया के एक बड़का करजा मिनट म माफ हो गे।
ओ ह बताइस के नवा सरकार बनतेच प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ह किसान मन के समस्या मन ल महसूस करिन अऊ धान के समर्थन मूल्य 25 सौ रूपिया क्विंटल करे के संगेच करजा माफ करके उंखर जइसे हिम्मत हार गए हजारों किसान मन ल एक नवा संजीवनी प्रदान करे हे। अब वो एक नवा उम्मीद के संग फसल बोही। अपन पांच लाख 23 हजार 660 रूपिया के करजा माफ करे म छत्तीसगढ़ सरकार के प्रति वो ह आभार घलोक जताये हे।

लउछरहा..