अब नइ नंदावय लेड़गा बरी

दुर्ग, लोक कवि मन के चिंता हे कि लेड़गा बड़ी के बनइया छत्तीसगढ़ म नंदावत हे। फेर पाटन ब्लाक के अरसनारा गांव के महिला समूह ह ठाने हे के लेड़गा बड़ी ल विलुप्त नइ होन दन। इही सोच के संग जब उमन लेड़गा बड़ी बना के बाजार म बेचना शुरू करिन, त देखतेच देखत लेड़गा बड़ी के स्टॉक ख़त्म हो गीस। जय माँ कर्मा महिला स्वसहायता समूह के अध्‍यक्ष अजीता ह बताइस कि ओ मन बिल्कुल परंपरागत छत्तीसगढ़ी व्यंजन अऊ अचार, बड़ी-बिजौरी तियार करत हें। लेड़गा बड़ी इमन पांच किलो…

भुपेश बघेल ल कोन कहे रहिस मरखंडा अउ जंगली हाथी

प्रदेश के मुख्यमंत्री भुपेश बघेल के तेवर अउ मनखे मन ऊपर होवत अनियाव के विरोध म तुरते लड़-भिड़ जाए के प्रवृत्ति ल देख के दाऊ वासुदेव चंद्राकर से गोठ-बात करत डॉ. परदेशीराम वर्मा ह ये बात कहे रहिन। उमन एहू कहे रहिन के दाऊ वासुदेव चंद्राकर भुपेश बघेल ल अइसे गुरु मंतर दीन के उमन पोसवा बन गए। पंद्रा साल ले सासन करत सरकार संग सरलग रार मचावत अपन मरखंडा छवि के भूपेश बघेल ल घलव भान रहिस तेकरे सेती तो मुख्‍यमंत्री के कुर्सी सम्‍हालतेच उमन कहिन के मैं बदला…

जीन्स पैन्‍ट म छोटे खीसा काबर रहिथे??

आप मन तो जानतेच होहू के कोनो भी जीच के आकार-प्‍्रकार के कुछू ना कुछु कारन होथे। इही कारन से हम पता लगाए के उदीम करने के जीन्स पैन्ट के जेवनी खीसा के उपर कोति एक ठन छोटकन पाकिट काबर होथे। जीन्‍स पैन्‍ट अड़बड़ मजबूत होथे ए कारन से विदेश म येला गाय चरईया, खेतिहर अउ मजदूर मन पहिरत रहिन। ये ह अड़बड़ दिन तक चलय अउ जल्‍दी फटय नहीं तेकर सेती ओन येला पहिरयं। बाद म येकर चलन अइसे बाढि़स के ये हर फेसन होगे। त ओ समें पहटिया…