दारूबंदी खातिर कांग्रेस सरकार बनाइस समिति

झन पी बेटा अब्बड़ करू हे रे

धर्मेन्‍द्र निर्मल के सार समाचार, छत्तीसगढ़ म दारूबंदी ल एकदम से बंद करे खातिर सरकार ह दारूबंदी अनुशंसा समिति के गठन कर दिए हावय। कांग्रेस के सियान सदस्य सत्यनारायण शर्मा ह
एकर अध्यक्ष होही। ए समिति ह सत्यनारायण शर्मा के अध्यक्षता म बूता करही। समिति म बने-बने राजनीतिक दल के विधायक मन ल घलो संघेरे गे हवय। एमा भाजपा के दू, बसपा के एक, जेसीसी के एक अउ कांग्रेस के आठ सदस्य मन संघरे हवय। राज्य शासन ह ए आदेश ल जारी करे हे। बता देथन केे छत्तीसगढ़ के कांग्रेस सरकार ह प्रदेश म दारू ल बंद करइया हे जेकर खातिर दारूबंदी समिति बना दे हवय।

चटकारा:-
गुरूजी:- दारू के लाभ अउ हानि बता ? ओकर ले मनखे उपर का का असर होथे ?
घोण्डुल:- दारू पीए ले हाथ गोड़ पीरा माढ़ जथे। कुकुर अउ कुकरी दूनो खवा जथे। मनखे शेर बनके दहाड़थे नइते सूरा बनके घोण्डे रहिथे।

ए समिति ह राज्य म दारूबंदी के अनुशंसा करहीं। समिति म पोठ पोठ समाज के मुखिया मनला संघेरे हवय। समिति ह चुमुक ले दारू बंद होए म प्रदेश उपर प्रभाव मनके अध्ययन करही। उहां के सामाजिक आर्थिक अउ व्यवहारिक बदलाव के घलो अध्ययन करही। एमा नई दिल्ली के सेवानिवृत्त संचालक जेपी मिश्रा सदस्य अउ आबकारी विभाग के संयुक्त संचालक चन्द्रकांत उइके हं सदस्य सचिव बनाए गे हवय। प्रदेश सरकार ह एक जनवरी के अपन मंत्रीपरिषद के बइठका म अइसन निर्णय लेके समिति बनाए हे। जउन हं दारूबंदी वाले प्रदेश म जाके घूम घूमके दारूबंद होए ले ओ राज्य म आए सामाजिक, आर्थिक अउ व्यवहारिक बदलाव के अध्ययन करके अपन निर्णय देही।

 

लउछरहा..