फुण्डहर शासकीय स्कूल के सराहनीय पहल : शाला त्यागी लइका मन बर लगाए गीस विशेष कक्षा

रायपुर, पढ़ई म फेल होए के कुंठा अऊ मन म पैदा होवइया मानसिक अवस्था प्रायः लइका मन ल पढ़ई ले दूरिहा कर देथे। फुण्डहर के शासकीय उच्चतर माध्यमिक स्कूल ह अइसनहे लइका मन ल फेर पढ़ाई ले जोरे बर अभिनव पहल करे हे। स्कूल म कक्षा 9 वीं के परीक्षा, ओपन स्कूल के संग देवइया लइका मन बर अलग ले कक्षा लगाके उंखर पढ़ाई के इंतजाम करे गीस।
दरअसल ये लइका मन फुण्डहर स्कूल म पढ़त रहिन, फेर पहली पइत कक्षा 9 वीं म सफलता नइ मिलीस। तब ए लइका मन ह अपन दिक्कत स्कूल म बताईन। स्कूल के शिक्षक मन अऊ शाला प्रबंधन समिति के बीच अइसन ग्यारा लइका मन ल पढ़ाई ले जोरे बर कई चीज उपर विचार होइस अऊ निर्णय लेहे गीस। ए मन ल ओपन स्कूल ले जोड़के घरे म रहिके पढ़ई सरलग जारी रखे जाय, फेर लइका मन ह एला पसंद नइ करिन। कक्षा म पढ़ई के जगा घर म बइठके पढ़इ नीरस अऊ उबाऊ लगत रहिस। फेर स्कूल प्रबंधन ह स्कूल कोति ले ए लइका मन ल कक्षा म बइठने के व्यवस्था करे गीस।
इहां घलोक ए लइका मन ल अपन ले जूनियर लइका मन के संग बइठने म झिझक होए लगिस अऊ लइका मन कक्षा ले गायब होए लगिन। स्कूल ह फेर रणनीति बदलिस, अइसन लइका मन बर अलग कक्षा अऊ दू निजी शिक्षक मन के व्यवस्था करे के निर्णय लीस, फेर इहां घलोक दिक्कत आईस। ए काम बर लइका कम रहिन एखर बर बाहिर ले लाए शिक्षक मन बर तनखा के इंतजाम नइ हो पात रहिस। स्कूल ह ए लइका मन के दिक्कत दूर करे बर फेर हल निकालिस। प्राचार्य अऊ शिक्षक मन ह अकतहा समय म ए लइका मन बर अलग ले कक्षा संचालित करके पढ़ई के व्यवस्था करिन। शाला प्रबंधन समिति ह घलोक ए काम म भरपूर सहयोग दीस।
स्कूल के शिक्षक मन के ये पहल कामयाब हो गीस अऊ लइका मन, मन लगाके पढ़े लगिन। 50-50 मिनट के कक्षा मन म ए लइका मन ह अपन पूरा ध्यान लगाए लगिन। ये लइका मन अब कक्षा 9 वीं के परीक्षा ओपन स्कूल के संग देंहीं। गरीब परिवार के ए लइका मन ल कहूं पढ़ई ले जोरे के पहल नइ करे जातिस त हो सकत हे ये लइका मन गलत रस्‍ता पकड़ लेतिन। आज उम्मीद बंधे हे के ये लइका मन अपन पढ़ाई पूरा करहीं अऊ देश के अच्छा नागरीक बनहीं।

लउछरहा..