जापान जाही केरा के छिलका ले सेनेटरी पैड बनइया होनहार छात्रा रीना

कोरबा, सतीश पांडेय, डीईओ, कोरबा के बगराए समाचार के मुताबिक केला के छिलका के उपयोग करके सेनेटरी पेड बनवइया होनहार छात्रा रीना अब जापान म अपन नवाचार के प्रदर्शन करही। छत्तीसगढ़ के कोरबा के एक सरकारी स्कूल के छात्रा रीना के चयन सकूरा एक्सचेंज प्रोग्राम बर होय हे। खबर हे के वो जापान म एक जापानी परिवार के संग पांच दिन ले रइही। ये बेरा म वो ह उहां के वैज्ञानिक, पढ़ईया लईका अऊ शिक्षाविद मन ले अपन मिलही अउ अपन योजना ल बताही। शिक्षा विभाग के साहब मन के मुताबिक रीना के मॉडल ह ओखर करियर के ऊंचा उड़ान म मददगार साबित होही।
हम आप मनल ल बता देवन के इन्सपायर अवार्ड मानक योजना के तहत 11वीं के छात्रा रीना राजपूत ह 14-15 फरवरी 2019 के दिन आइआइटी दिल्ली म आयोजित सातवां राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी म संघरे रहिस। ए योजना के उद्देश्य विज्ञान अउ तकनीक के परयोग करके सामाजिक विकास के क्षेत्र म समस्या मन के समाधान करइया नवाचारी प्रोजेक्ट तैयार करवा के पढ़ईया लईका मन ल प्रोत्साहित करना रहिथे। रीना ह हाई स्कूल स्याहीमुड़ी के प्राचार्य डॉ.श्रीमती फरहाना अली के मार्गदर्शन म अपन प्रोजेक्ट इको फ्रेंडली सेनेटरी नैपकिन बनाइस, जऊन ल जिला, जोन, राज्य अउ राष्ट्रीय स्तर म बहुत सराहना मिलीस। एकर बाद इही प्रोजेक्ट के प्रदर्शन करे बर जापान म चयन हो गए।
प्राचार्य मेडम के बताती व्यावसायिक सेनेटरी नैपकिन्स ह हानिकारक रसायन के उपयोग ले बनथे जेकर से अंग म बीमारी हो सकत हे। येमा प्लास्टिक के घलोक उपयोग होथे जऊन पर्यावरण बर हानिकारक हे। जबकि रीना के बनाए केला के तना ले बने इको फ्रेंडली नैपकिन्स ह जैविक हे अउ सस्ता हे, संगें-संग येकर से पर्यावरण ल कोनो नुकसान तको नइ पहुंचय।

लउछरहा..