शासन अऊ डॉक्टर के एके उद्देश्य हे, जनता के सेवा: श्री भूपेश बघेल

रायपुर, मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल बिरसपत के दिन साइंस कॉलेज ऑडिटोरियम म एसोसिएशन ऑफ ओरल एंड मेक्सिलोफेशियल सर्जनस ऑफ इंडिया (AOMSI) के 23वां कॉन्फ्रेंस म मुख्य अतिथि के रूप म सामिल होइन। उहां उपस्थित युवा सर्जन मन के उत्साह बढ़ात उमन कहिन के आप मन के मेहनते हे के आज उमर के असर चेहरा म दिखना बंद हो गे हे। संगेच उमन डेंटल सर्जन मन ल राज्य सरकार कोति ले पूरा मदद करे के भरोसा घलोक दीन। पं. दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम म आयोजित ए तीन दिन के कांफ्रेंस म देश ले डेंटल सर्जन मन ह 300 पेपर जमा करे हें।
कार्यक्रम के शुरु म मुख्यमंत्री श्री बघेल ल कॉन्फ्रेंस चेयरमैन डॉ सुनील व्यास कोति ले मोमेंटो देके करे गीस। मुख्यमंत्री श्री बघेल ह ये बेरा म कहिन के छत्तीसगढ़ बने के बाद ओरल सर्जन मन के संख्या बाढ़े हे। ओरल सर्जरी म नवा तकनीक आज के जरूरत हे। ओरल सर्जरी ले न सिरिफ ओरल कैंसर जइसे गंभीर बीमारी के इलाज करे जा सकत हे, भलुक दुर्घटना या आन अइसन कारण मन ले कहूं चेहरा म कोनो विकृति आ जाए त एकरो इलाज येकर ले सम्भव हे। कॉन्फ्रेंस के उपयोगिता के संबंध म मुख्यमंत्री श्री बघेल ह कहिन के अतीक सर्जन आज इहां एके जगा सकलाए हें, जऊन आपस म नवा-नवा जानकारी बाटहीं। नवा तकनीक ल जानहीं, एकर फायदा देश भर के मरीज मन ल मिलही।
स्वास्थ्य मंत्री श्री टी.एस.सिंहदेव ह कहिन के चिकित्सा के क्षेत्र म आज कई चुनौती हे जेमां सुलभ चिकित्सा सेवा देना प्रमुख हे। ओरल सर्जरी म विशेषज्ञता के असीम सम्भावना हे। श्री ताम्रध्वज साहू ह कहिन के आजकल नवा नवा बीमारी फइलत हे। ते खातिर चिकित्सक मन ल घलोक इलाज के नवा नवा तरीका खोजे ल परथे। एखर बर अइसन सेमिनार अऊ कांफ्रेंस बहुत परिणामदायक होथे।
कार्यक्रम म AOMSI के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कृष्णमूर्ति बोनान्थाया ह कहिन के इहां उपस्थित युवा डॉक्टर्स भविष्य के सर्जन हें। हम इहां आप मन ल वो आईना देखाना चाहत हवन, जेमां आप मन देख सकव के आगू चलके आप मन का बन सकत हव अऊ समाज ल का योगदान दे सकत हव। कार्यक्रम म AOMSI कोति ले बनाये गए सड़क दुर्घटना जागरूकता फिल्म के प्रदर्शन घलोक करे गीस। ए अवसर म विधायक श्री कुलदीप जुनेजा अऊ श्री विकास उपाध्याय, स्वास्थ्य सचिव श्रीमती निहारिका बारिक सिंह, एम्स के डायरेक्टर डॉ. नितिन एम. नागारकर, रीजनल कैंसर सेंटर के डायरेक्टर डॉ. विवेक चौधरी संग बड़ संख्या म युवा चिकित्सक उपस्थित रहिन।

लउछरहा..