कोनो लाटरी, कोनो नौकरी के चक्कर म लाखो गंवावत हे

पुलिस भइगे, पता लगावत हे

धमेन्‍द्र निर्मल के सार समाचार। साहर म रोज एक ठन न एक ठन ठगपुसारी के घटना घटत हावय। घर, बजार अउ रेलगाड़ी हर जगह ठग्गू मन अलग अलग तरीका अपना के लोगन ल अपन सिकार बनावत हावय। पाछू महीना भर म एटीएम फ्राड, त नौकरी लगाए के बहाना अउ अइसनेहे मेकराजाला के अपराध के कम से कम आधा दर्जन ठगपुसारी के मामला जानबा होए हे अउ एति बर पुलिस ह उन ल पकड़ नइ पाए हवय। लोगन मन जादा पइसा के लालच अउ लाटरी के भरोसा धनवान बने के चक्कर म आके लाखों रूपिया गँवावत हे। ए ठगपुसारी कांड के जाँच म जादा ल जादा इही बात आगू म आवत हे कि मनखे अपन गलती ले खुद फँसत हावे। ओमन फँदौला कालिंग ले सावचेत नइ रइय अउ लाटरी नइते ओइसनेहे असन कोनो अउ झूठ मूठ के योजना म फँसके अपन पसीना के कमई पानी म बोहवा डारथे। जब गलती के पता चलथे तब उन मन पुलिस के सहारा माँगे बर जाथे तब तक तो उन चोर उचक्का मन छूलम्मा हो जाय रहिथे। उन चोर उचक्का म पकड़े बर पुलिस तीरन कांही छेदा – भेदा नहीं राहय। ए जिला म अइसनेहे कई ठो कांड हाावय जेकर साल डेढ़ साल ले घलो कोनो फुसका फरिया चोर नइ पकड़ाए हे। पाछू बछर पुलिस हँ लोगन म जागरूगता लाए खातिर स्कूल कालेज मन म ’ साइबर जागृति कार्यषाला चलाए रिहिने, ओकरो जादा असर नइ होइस, पढ़े लिखे मनखे तको मेकराजाला ठग्गू मन के सिकार होवत हे।




10 झन माइलोगन मन ले ठग लिस लाखो रूपिया
अभीन दू तारीक के भेलई के रिसाली बस्ती म एक झिन देहाती मुँहा माइलोगन हं आके एक झन माइलोगन ल कहिस के मै हं सोना चांदी झारे के काम करथौ। तैं मोला सोन दे दे अउ दू तीन घंटा म सोन के संगे संग दस हजार रूपिया नगद तको ले लेबे। अइसनेहे जाल बिछाके वोह अपन फाँदा म गाँव के आठ दस झिन माइलोगन ल फँास डारिस अउ उखर जम्मो ंगाहना गूठा ल धर के छूलम्मा होगे। जब इमन ल पता चलिस कि वो तो ठग के लेगे तब जाके इमन थाना म रपोट लिखाइन।




जम्मो ठग बाहिरी
कइठो थाना म दर्ज मामला मन म जब पुलिस हँ मेकराजाला ईकाई के माध्यम ले जाँच खातिर लोबेषन ट्रेस करिसा त ए बात आगू आइस कि जादा ले जादा ठग अउ चोर उचक्का मन हँ यूपी. बिहार अउ दिल्ली के निकलिन फेर पुलिस उन पकड़ नइ पाइस। मेकराजाला के हुसियार के कहना मानिन त पता चलथे कि दिल्ली यूपी अउ नामताड़ा ( झारखण्ड) म इन ठग मन अपन ठिहा बनाके राखे हावय। जम्मो डेबिट कार्ड वाले लफड़ा म जामताड़ा अउ क्रेडिट कार्ड वाले लफड़ा म दिल्ली अउ नोएडा के ठग मन संघरे हावय।



चटकारा:-
मंगलू:- कस समारू काली थाना म तोर फोटू टंगे देखे हौं , का बात ए जी ?
कोेदू:- अरे हम उ थाना के उद्घाटन करे खातिर नेताजी के साथ गए रहे बा।
मंगलू:- त उहां तो तोरे भर फोटू हे जी।
कोदू:- नेताजी फीता काटते साथ पलेनवा म बइठके उड़ा गइस, बांचेन हम। तो हुंआ हमरा नइ तो अउर किसका फोटू लगेगा।
मंगलू:- त टिरटिरावत काबर हस ?
कोदू:- अरे तैं जा यार हियां ले, समझबे न कांही बात करत बा।




लउछरहा..