संसार के सबले लंबा कई कोस के ‘तिरंगा’ लहराही, रायपुर म

एक अऊ विश्व कीर्तिमान बनाए कोति बढ़त हे रायपुर
पूरा छत्तीसगढ़ जुड़ही ए अजब कार्यक्रम ले

आज के समें म वोट के राजनीति के चलते राजनीतिक पार्टी मन तिरी-पासा खेलत हें अउ समाज ल जाति, धर्म, बोली, भाखा, क्षेत्रीयता के कई ठन खांचा मन म सरलग बांटत हे। अइसन बिकट बेरा म, म कई प्रकार के धरम, जाति संस्‍कृति वाले ए बड़का देश के अखंडता ल पक्‍का बनाए रखे के जरूरत हे। समाज के सबो वर्ग म देशभक्ति के नवा भावना के संचार करे बर सबो ल एक सूत्र म बांधना घलो जरूरी हे। ए सब के एकता बर हम सबके मयारू तिरंगा ही ह सबले अच्‍छा माध्यम हो सकत हे।



एला देखत, देश म सामाजिक मया-पिरीत अउ एकता स्थापित करे के अउ संगें संग हमार शहीद मन के सम्मान बर समूचा दुनिया म तिरंगा के कीर्तिमान रचे के उददेश्य ले वसुधैव कुटुंबकम फाउंडेशन के संग छत्तीसगढ़ के सबो सामाजिक संस्था अउ शहीद परिवार मन के संग मिलके अगस्त महिना म विश्व के सबले लंबा 15 किमी लंबा तिरंगा लहरइया हे। उही कार्यक्रम ल सफल बनाए खातिर 16 मई के दिन सुरूवाती बैठक बिरसपतवार के दिन रायपुर के वृंदावन सभागार म रखे गए रहिस। जेमा प्रदेश के सामाजिक, साहित्यिक संस्था मन, सबो धर्म के मनखे मन ह बढ़चढ़के हिस्सा लीन अऊ तिरंगा के ए अजब कार्यक्रम ल सफल करे के शपथ घलोक लीन। सबो मन ह कहिन के ए कार्यक्रम ले पूरा छत्तीसगढ़ ल जोड़े जाही। तिरंगा हमर आन बान शान के चिनहा हे अऊ एखर खातिर कतकोन जवान अपन जान के कुर्बानी देहे हें, उही जज्बा फेर हर भारतीय के हिरदे म पैदा करे के जरूरत आ गए हे।




ए कार्यक्रम म रायपुर के कई ठन समाजसेवी संगठन के पदाधिकारी, साहित्यिक, सांस्कृतिक संस्था मन के प्रमुख अउ पदाधिकारी, प्रबुद्ध नागरिक मन के संगेच मुख्य रूप ले भरत बजाज, लक्ष्मीनारायण लाहोटी, अमरजीत जुनेजा, सरोज सिंह, रोहित सिंह अउ बस्तर ले पधारे डॉ राजाराम त्रिपाठी जी उपस्थित रहिन।


लउछरहा..