बहुउपयोगी साबित होत हे मोखला के आदर्श गौठान, बदले लगिस गांव के सरूप

राजनांदगांव जिला म बनत हे 117 गौठान
हर विकासखंड म होही एक-एक मॉडल गौठान

राजनांदगांव, कृषि क्षेत्र के पूरा विकास अउ ग्रामीण अर्थव्यवस्था ल तगड़ा बनाए के उद्देश्य ले चालू करे गए छत्‍तीसगढ़ सरकार के बहुत महत्वाकांक्षी नरवा, गरवा, घुरवा, बारी योजना राज्य के गांव मन के तकदीर अउ तस्वीर बदलइया योजना साबित होवत हे। ए योजना के अंतर्गत राजनांदगांव विकासखंड के ग्राम मोखला म निर्माणाधीन आदर्श गौठान बहुउपयोगी साबित होत दिखाई देवत हे।

जिला के प्रमुख अउ राज्य के जीवनदायिनी शिवनाथ के तीर करीबन साढ़े 12 एकड़ के जमीन म बनाए जात ए गौठान अउ चारागाह के प्राकृतिक अउ भौगोलिक स्वरूप घलोक बहुत अनुकूल होए के सेती मनोरम दिखाई देत हे। ग्राम मोखला शिवनाथ नदी के तीर स्थित होए अउ समुचित मात्रा म सिंचाई सुविधा होए के सेती ए गांव म बारहमासी खेती करे जाथे। ग्राम मोखला म खेती किसानी के अलावा पशुपालन के परम्परा घलोक बहुत समृद्ध हे। जेखर सेती फसल मन ल अपन गांव के अलावा आन अवारा पशुओं ले रक्षा करना अड़बड़ चुनौतिपूर्ण काम होत रहिस, फेर अभी हाले म ग्राम मोखला म आदर्श गौठान के निर्माण होए ले पशु मन ल एखर गौठान म सुरक्षित रखे ले गर्मी के मौसम म खेती-किसानी करे म काफी सहूलियत होवत हे। ए साल गरमी म मोखला के किसान मन के रबी फसल ल पशु मन कोति ले कोनो प्रकार के क्षति नइ पहुंचाए गए हे। अभी हाले म छत्‍तीसगढ स़रकार के ए विशेष प्राथमिकता वाले ए योजना के फलस्वरूप ग्राम मोखला म गौठान के निर्माण करे ले पूरा ग्राम के सरूप बदले लगे हे।



ए योजना के फलस्वरूप ग्राम म एक आदर्श गौठान के निर्माण के संगें-संग पशु मन बर समुचित मात्रा म चारा के व्‍यवस्‍था करे गए ले पशु मन के एती-ओती बेंवारस कस गिंजरई कम हो गए हे। एखर अलावा ए गौठान म राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत स्व सहायता समूह के महिला मन वर्मी कम्पोस्ट निर्माण करे के विधि सीखे के अलावा सीमेंट पोल, फैंसिग तार अउ डिजायनर चूड़ी बनाए जइसे स्वरोजगार मूलक काम घलोक समूह के महिला मन कोति ले करे जाही।

अइसनहे जिला के सबो विकासखंड के कई ठन ग्राम पंचायत मन म कुल 117 गौठान बनाए जात हे। ग्राम मोखला के गौठान के तर्ज म जिला के हर एक विकासखंड मन म एक-एक मॉडल गौठान के निर्माण घलोक करे जात हे। जिला के सबो गौठान मन म मुलभूत सुविधा के व्‍यवस्‍था करा दे गए हे। संगेच ए गौठान मनम पशु मन के आना घलोक चालू हो गए हे।

ग्राम मोखला के कुल 12 एकड़ जमीन म ले 7.5 एकड़ जमीन म गौठान निर्माण अउ शेष जमीन ल चारागाह के रूप म विकसित करे जात हे। गौठान निर्माण के सुरूवाती दिन मन म घलोक रोजेच गांव के कुल 690 पशु मन म ले जादा पशु गौठान म आवत हे। जेखर सेती ए स्थान के पूरा सरूपेच बदल गए हे। अब ये जगा सुविधायुक्त गोकुलधाम के रूप म बदल गए हे। ए गौठान म कोटना निर्माण काम पूरा हो गए हे। अइसने सबो 7 पानी टंकी, 3 चबूतरा अउ पैरा बर 7 मचान के निर्माण के काम पूरा हो गए हे। एखर अलावा वर्मी शेड निर्माण के काम घलोक करे जात हे। गौठान म पशु मन के पीए के पानी के व्यवस्था बर गौठान म 5 एचपी के सोलर पैनल लगाइए गए हे। जेखर माध्यम ले समुचित मात्रा म पशु मन बर पानी के आपूर्ति करे जात हे। एखर अलावा चारागाह बर अलग ले सोलर पैनल लगाए जाही। सबो निर्माण काम लगभग पूरा होवइया हे।




ग्राम मोखला के चारागाह म नेपीयर घांस, मक्का आदि फसल चक्र के अनुसार लगाए जाही। ए गौठान म पुश मन के ईलाज बर पशु चिकित्सा विभाग के संग एक पशु चिकित्सक के तैनाती करे गए हे, जऊन पूरा समय गौठान म उपस्थित रहिके पशु मन के देखभाल करही। ए गौठान ले गौमूत्र सकेले के काम घलोक करे जाही। ड्यूटी म तैनात पशु चिकित्सक ह बताइस के ए गौठान के माध्यम ले एके जगा म गांव के सब्बो पशु मन समुचित इलाज अउ नस्ल सुधार आदि के काम ल सफलता ले करे जात हे। गौठान म पशु चिकित्सा विभाग कोति ले ए गौठान के पशु मन के ईएआर टैंगिंग, एसएस वैक्सीन, बीक्यू वैक्सीन देहे गए हे। एखर अलावा भविष्य म कृत्रिम गर्भदान अउ पशु मन के उचित रखरखाव बर शिविर के आयोजन करे जाही। ए गौठान के संचालन बर गौठान समिति के घलोक गठन करे गए हे। ए गौठान समिति म कुल 20 सदस्य हे। ग्राम पंचायत के सरपंच ल गौठान समिति के अध्यक्ष बनाये गए हे। एखर अलावा ग्राम पंचायत के सचिव, पंच, कोटवार अउ चरवाहा, कृषि मित्र आदि ल गौठान समिति के सदस्य बनाये गए हे।



ए गौठान समिति के अलावा महिला समूह कोति ले घलोक आदर्श गौठान के निर्माण बर बहुमूल्य सहयोग देहे जात हे। ग्राम के महिला स्वसहायता समूह के सदस्य मन ह पशु मन ल गौठान तक पहुंचाए के जिम्मेदारी लेहे हें। ग्राम के महिला समूह के सदस्य मन ह गांव वाले मन ल राज्य शासन के नरवा, घुरवा, बाड़ी योजना के संबंध म जानकारी देहे के अलावा गांव वाले मन ल पशु सखी, कृषि मित्र आदि योजना ल ल गौठान ले जोड़े बर सरलग बैठक आयोजित करे के काम घलोक करे जात हे। एखर अलावा ऊंखर कोति ले वर्मी, नाडेप, घुरवा, जैविक खाद के संबंध म मनखे मन ल जानकारी देके प्रोत्साहित करे जात हे। संगेच सखी समूह के महिला मन कोति ले समय-समय म बैठक लेके आदर्श गौठान के संचालन बर गांव वाले मन ल प्रेरित घलोक करे जात हे। ए गौठान म फलदार पौधा मन के रोपण घलोक करे जात हे। गांव वाले मन ह ए गौठान म अपन सामुदायिक भागीदारी निभात 2 महिना बर पैरा दान करे हें। जेखर से ए गौठान म पशु मन ल दू महिना तक समुचित मात्रा म पैरा मिल सकही।




ग्राम मोखला के ये गोठान पशु मन के संरक्षण अउ उचित देख-भाल के अलावा गांव वाले मन अउ समुह के महिला मन ल स्वरोजगार देहे के माध्यम घलोक बनही। ए गोठान के माध्यम ले गो मूत्र इक्कठा करे के अलावा कंपोस्ट खाद निर्माण, फ्लाईएश, पेवर ब्लॉक, तार जाली, सीमेंट पोल बनाए अउ डिजाईनर चुड़ी निर्माण जइसे बहुत अकन उपयोगी अउ स्वरोजगार मूलक काम करे जाय के योजना हे। ये वाले काम सही म गांव वाले मन ल स्वरोजगार देवाए म महत्वपूर्ण भूमिका अदा करही। ग्राम मोखला के प्रगतिशील कृषक श्री लखन लाल साहू ह ए गौठान के संबंध म अपन विचार व्यक्त करत कहिन के गांव वाले मन के सामने आवारा पशु मन ले अपन फसल के रक्षा करना अड़बड़ चुनौतिपूर्ण काम होथे। ए गोठान के निर्माण हो जाय ले एखर समस्या ले निदान मिल सकही। उमन कहिन के ए गौठान म फलदार वृक्ष मन के रोपण करके एला बगईचा के रूप म विकसित करे जा सकत हे। ग्राम मोखला के ग्रामीण श्री देवनाथ निषाद ह कहिस के ये गोठान शिवनाथ नदी के तीर स्थित होए के सेती इहां के दृश्य घलोक काफी मनोरम हे। जेखर सेती ए स्थान ल पिकनिक स्पॉट के रूप म विकसित घलोक करे जा सकत हे। एखर से ग्राम मोखला के ये गौठान एक आदर्श गोठान बनके बहुउपयोगी सिद्ध होही।


लउछरहा..