गुरू मन के सम्मान करव, ऊंखर बताये मार्ग के अनुसरण करव : मंत्री श्री चौबे

  • इही महाविद्यालय ले अध्यक्ष के रूप म राजनैतिक जीवन के शुरूआत करे रहिस श्री रविन्द्र चौबे ह
  • साइंस कालेज के वार्षिक स्नेह सम्मेलन कार्यक्रम

रायपुर, कृषि अऊ संसदीय कार्य मंत्री श्री रविन्द्र चौबे ह आज दुर्ग के शासकीय विश्वनाथ तामस्कर स्नातकोत्तर महाविद्यालय के वार्षिक स्नेह सम्मेलन कार्यक्रम म सामिल होइन। उमन शैक्षणिक सत्र म पहिली स्थान प्राप्त करइया, छात्र-छात्रा मन अऊ खेल अऊ कई ठन गतिविधि मन म महाविद्यालय के नाम रोशन करइया छात्र-छात्रा मन ल मेडल अऊ प्रशस्ति पत्र भेंट करके सम्मानित करिन। कार्यक्रम के अध्यक्षता उच्‍च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल ह करिस। विशिष्ट अतिथि के रूप म दुर्ग शहर विधायक श्री अरूण वोरा उपस्थित रहिन।
श्री चौबे ह कहिन कि महाविद्यालय के वार्षिक स्नेह सम्मेलन कार्यक्रम म सामिल होके ओ मन गौरवान्वित महसूस करत हें। आज ओ मन जऊन मंच म खड़े हे, उहां ओ मन 41 साल पहिली छात्र अध्यक्ष के रूप म खड़े होवत रहिन। उमन साल 1977 म इही महाविद्यालय के अध्यक्ष पद ले अपन राजनीतिक जीवन के शुरूआत करे रहिन। छात्र राजनीति के बेरा म उमन महाविद्यालय के जरूरत अऊ समस्या मन के संगेच प्रदेश के समस्या मन ल लेके आंदोलन करे रहिन। ओ मन ल हमेशा महाविद्यालय के प्राचार्य अऊ प्राध्यापक मन के सहयोग अऊ स्नेह मिलत रहे हे। ओ समें के प्राचार्य श्री वर्मा ह ओ मन ल अनुशासन म रहिके आगू बढ़े के सीख दीन। चौबे जी ह कहिन के ऊंखर बताये गए ए असली मंत्र ल अपन जीवन म आत्मसात कर मैं आगू बढ़ेंव अऊ आज घलोक अमल करत हंव। आज मैं जऊन मुकाम म पहुंचे हंव, एखर बर मैं महाविद्यालय के पहिली प्राध्यापक मन ल प्रणाम करत ऊंखर योगदान ल सुरता करत हंव। उमन कहिन के गुरू मन के हमेसा सम्मान करव। ऊंखर बताए मारग के अनुसरण करव। पूरा लगन के संग मेहनत करव अऊ जीवन म सफलता के रस्‍ता प्राप्त करे लक्ष्य निरधारित करव। उमन महाविद्यालय के गौरवमयी स्वर्णिम इतिहास के उल्लेख करत कहिन के महाविद्यालय ह शैक्षणिक गतिविधि मन के संगेच सामाजिक गतिविधि मन म घलोक अपन परचम लहराये हे। पढ़ईया लईका मन म कल्पना अउ सोच होनी चाही के हमर देश अऊ प्रदेश कइसन होवय अऊ एखर विकास म हमर का योगदान हो सकत हे।

लउछरहा..