ताला अऊ मदकु द्वीप के जुन्‍ना मंदिर मन के दरसन के संग होइस राष्ट्रीय संगोष्ठी के समापन

रायपुर, संचालनालय संस्कृति अउ पुरातत्व छत्तीसगढ़ कोति ले आयोजित २८ तारीक ले ३० तारीक तक चलईया राष्ट्रीय संगोष्ठी के आखरी दिन अध्येता मन ह प्रदेश के प्राचीन मंदिर स्थापत्य के दू महत्वपूर्ण केंद्र ताला के देवरानी- जेठानी मंदिर मन अउ मदकू द्वीप के खुदाई ले प्राप्त अनुरक्षित मंदिर मन के अवलोकन करिन। संस्कृति विभाग के उप संचालक श्री राहुल सिंह ह ताला के मंदिर मन के प्रकाश म आए ल लेके ओखर वास्तु अऊ शिल्प के महत्व ले उपस्थित विद्वान मन ल परिचित कराइन। ये बेरा म बाहिर ले आए अध्येता मन ल ताला के रूद्रशिव के विश्वविख्यात दुर्लभतम मूर्ति ल प्रत्यक्ष देखे अऊ जाने के अवसर सुलभ होइस।


विभाग कोति ले करे गए उत्खनन ले प्रकटित मड़कू द्वीप के प्राचीन मंदिर समूह मन के बारे म श्री जी एल रायकवार ह विस्तार ले मनखे मन ल बताइन। आप मन जानतेच होहू के विभाग कोति ले आयोजित ए राष्ट्रीय संगोष्ठी म करीबन ४० शोध प्रस्तुति होए हे। एखर से छत्तीसगढ़ समेत भारत के कई ठन क्षेत्र मन के प्राचीन मंदिर के जानकारी के संबंध म नवा बात जउन पता चले हे तेकर उपर घलव चर्चा होइस।


ए अवसर म डॉ सीताराम दुबे बनारस, डॉ आर पी पांडेय ग्वालियर, डॉ आर एन विश्वकर्मा राजनांदगांव, डॉ राजेन्द्र यादव भोपाल, डॉ मनोज कुर्मी, डॉ मंगला नंद झा खैरागढ़, डॉ सुनीता यादव बनारस, डॉ आशुतोष चौरे, डॉ शंभूनाथ यादव रायपुर संग विश्वविद्यालय के विद्यार्थी अऊ शोधार्थी अऊ विभागीय कर्मचारी उपस्थित रहिन।

लउछरहा..